Latest Update

इलाहाबाद में लॉ के छात्र को पीट-पीट कर मारने वाला मुख्य आरोपी…..

इलाहाबाद में लॉ के छात्र को पीट-पीट कर मारने वाला मुख्य आरोपी…..

नई दिल्ली: इलाहाबाद  में लॉ के एक छात्र की पीट-पीटकर हत्या के मामले में तीन दिन बाद भी मुख्य आरोपी विजय शंकर सिंह फ़रार है. पुलिस के मुताबिक़ विजय शंकर सिंह का अपने ज़िले सुल्तानपुर के एक दबंग नेता और पूर्व विधायक चंद्रभद्र उर्फ सोनू सिंह का करीबी है. इलाहाबाद के एसएसपी का कहना है कि विजय शंकर की तलाश और उसके परिवार के लोगों से पूछताछ के लिए पुलिस की टीम सुल्तानपुर जाएगी और अगर ज़रूरत पड़ी तो विजय के क़रीबी दबंग नेता सोनू सिंह से भी पूछताछ होगी.  दोनों के एक साथ कई तस्वीरें हैं, जिसके बिनाह पर पुलिस सोनू सिंह से पूछताछ कर सकती है.

गौरतलब है कि शनिवार रात एक रेस्तरां के बाहर मामूली कहासुनी के बाद विजय शंकर और उसके कुछ दोस्तों ने दिलीप सरोज को पीट-पीट कर मार डाला था.बताया जा रहा है कि कि दिलीप और उसके साथी रेस्तरां की सीढ़ियों पर बैठे थे, जब आरोपियों में से एक के पैर से उसका पैर टकरा गया. इसको लेकर शुरू हुई बहस मारपीट में बदल गई. वहां से गुजर रहे एक व्‍यक्ति के मोबाइल फोन से रिकॉर्ड किए गए वीडियो में दिख रहा है कि दिलीप सरोज नाम का शख्‍स रेस्‍तरां की सीढ़ियों पर अचेत पड़ा है. ऐसा लग रहा है कि उसे मार रहे लोग नशे में धुत हैं. वीडियो में वहां से गुजरता एक व्‍यक्ति रुकता भी जबकि अन्‍य इस पर ध्‍यान नहीं देते. जिन लोगों ने इस घटना को अपने मोबाइल में कैद किया, वो वीडियो में कहते सुने जा सकते हैं कि ‘जब वह मर जाएगा तभी पुलिस आएगी.’ हालांकि उनमें से किसी ने पुलिस को फोन नहीं किया.

जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने बताया, “दिलीप के भाई की तहरीर पर कल सुबह तीन अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी. सीसीटीवी फुटेज और इस घटना के वायरल हुए वीडियो के आधार पर मुख्य अभियुक्त के तौर पर विजय शंकर सिंह की पहचान की गई है जो भारतीय रेलवे में टीटीई के पद पर कार्यरत है. वह अभी फरार है.” उन्होंने बताया, “कालका होटल के मालिक अमित उपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया गया है. वह विजय शंकर सिंह को पहले से जानता था और घटना के समय स्थल पर मौजूद था लेकिन इस घटना की सूचना उसने पुलिस को नहीं दी.” उन्होंने कहा कि शव का पोस्टमार्टम कर उसे उसके परिजनों को सौंप दिया गया है. कुलहरि ने माना कि भरे बाजार में ऐसी घटना की सूचना थाना प्रभारी को नहीं होना, उसकी खुफिया तंत्र की विफलता है. फिलहाल पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है और सीएम योगी आदित्यनाथ ने दिलीप के परिजनों को 20 लाख रुपये की मदद देने की घोषणा की है.

दोस्तों.. NewsHut24 की मोबाइल एप को डाउनलोड कीजिये....गूगल के प्लेस्टोर में जाकर NewsHut24 टाइप करे और यहाँ क्लिक कर के एप डाउनलोड करे..धन्यवाद. पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर। LIKE कीजिए NewsHut24 का facebook पेज। भी लाइक करे. कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें. E-mail : - YourFriends@newshut24.com



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *