Latest Update

आखिरकार मुजफ्फरनगर में लंबे विवाद के बाद ढहाई गई, 10 साल पुरानी मस्जिद…..

आखिरकार मुजफ्फरनगर में लंबे विवाद के बाद ढहाई गई, 10 साल पुरानी मस्जिद…..

मुजफ्फरनगर: उत्तर प्रदेश में एनएच-58 हाईवे के किनारे बने एक धार्मिक स्थल को आज जिला प्रशासन ने हटा दिया है। इस दौरान मौके पर भारी संख्या में पुलिस बल और प्रशासनिक टीम मौजूद रही। इस मस्जिद को पहले भी कई बार हटाने का प्रयास किया गया था लेकिन हर बार विवाद के चलते यह मस्जिद नहीं हटाई गई। इसकी वजह से पिछले लगभग 10 सालों से पुल कार्य बाधित हो रहा था। पुल का पूरा निर्माण ना होने की वजह से रेलवे लाइन के ऊपर बने इस फ्लाईओवर पर वन वे ट्रैफिक गुजरता था।(ताज़ा खबर)

रोहित शर्मा ने लिया विराट कोहली का यह खास इंटरव्‍यू, जानें क्‍या बोले टीम इंडिया के कप्‍तान….

जिस वजह से हाईवे बनने के बाद से अब तक सड़क दुर्घटनाओं में तकरीबन 80 से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं।उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार आने के बाद मुजफ्फरनगर के सांसद डॉक्टर संजीव बालियान ने मस्जिद को हटवाने का प्रयास जोरो-शोरों से शुरू किया था। इस संबंध में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से भी वार्ता कर तकरीबन दो सौ बीस करोड़ रुपये आवंटित किए गए थे। साथ ही साथ भाजपा सांसद डॉक्टर संजीव बालियान के प्रयासों के बाद आज हाईवे किनारे बनी इस मस्जिद को जिला प्रशासन द्वारा हटा दिया गया।इस मस्जिद की वजह से हाईवे पर रेलवे लाइन के ऊपर बना फ्लाईओवर अधर में था।(ताज़ा खबर)

जो अब जल्द ही पूरा होने की उम्मीद है। सबसे बड़ी बात ये रही की इस दौरान कोई भी विवाद नहीं हुआ और मस्जिद को शांति पूर्व तरीके से हाईवे से हटा दिया गया। मस्जिद हटवाने में मुस्लिमों का भी पूरा समर्थन रहा। पूर्व मंत्री संजीव बालियान मीडिया से बात रखते हुए परिवहन केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के इस सराहनीय कदम पर धन्यवाद भी दिया। वहीं बताया जा रहा है कि जमीन के मालिक को नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इण्डिया के द्वारा लगभग 35 लाख रूपये का मुआवजा भी दिया गया है।

दोस्तों.. NewsHut24 की मोबाइल एप को डाउनलोड कीजिये....गूगल के प्लेस्टोर में जाकर NewsHut24 टाइप करे और यहाँ क्लिक कर के एप डाउनलोड करे..धन्यवाद. पाइए हर खबर अपने फेसबुक पर। LIKE कीजिए NewsHut24 का facebook पेज। भी लाइक करे. कृपया अपने बहुमूल्य सुझाव भी दें. E-mail : - YourFriends@newshut24.com



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *